शक्ति कपूर की बेटी श्रद्धा कपूर को बचपन से ही था इस बॉलीवुड सूपरस्टार के बेटे से प्यार

श्रद्धा कपूर मात्र कुछ ही समय मे बॉलीवुड की बहुत बड़ी और नामी अभिनेत्री बन चुकी है जिसके चलते आज के समय मे इन्हें सभी लोग जानते है. श्रद्धा कपूर के बारे में बोला जाता है वह बॉलीवुड की उन अभिनेत्रियो में आती है जिन्होंने बहुत जल्दी ही अपना बॉलीवुड में नाम बना लिया. आपकीं जानकारी के लिए बता दे हालहिं में श्रद्धा कपूर का एक वीडियो सामने आया है जिसमे वह बता रही है कि उन्हें बचपन में ही प्यार हो गया था.

श्रद्धा कपूर का किसी और पर नह बल्कि वरुण धवन पर दिल आ गया था और बात यहां तक आ गई थी कि श्रद्धा कपूर ने वरुण धवन के सामने अपने प्यार का इज़हार कर दिया था. आइए आपको आगे आर्टिकल में बताते है किस प्रकार श्रद्धा कपूर ने वरुण धवन के सामने अपने प्यार का इज़हार किया था.

 

वरुण धवन बॉलीवुड के बहुत बड़े और नामी सितारे है जिनका वर्तमान समय मे बॉलीवुड की फ़िल्म इंडस्ट्री में बहुत बड़ा नाम है. आपको बता दे कि वरुण धवन और श्रद्धा कपूर का बचपन साथ गुजरा है. यही कारण है कि श्रद्धा कपूर वरुण धवन को अपना दिल दे बैठी थी. आपकीं जानकारी के लिए बता दे कि श्रद्धा कपूर ने वरुण धवन के सामने अपने प्यार का इज़हार करने के लिए वरुण को अकेले में लेकर गई थी और अपने प्यार का इज़हार किया लेकिन वरुण धवन ने श्रद्धा की इस बात का कोई भी जवाब नही दिया और बिना कुछ बोले चले गए. यह बात किसी और ने नही बल्कि खुद श्रद्धा कपूर ने बताई है कि वह वरुण धवन को कितना पसन्द करतो थी लेकिन आपकीं जानकारी के लिए बता दे कि वरुण धवन ने हालहिं में अपने गर्लफ्रैंड से शादी कर ली है और अब उसी के साथ अपना जीवन व्यतीत कर रही है. आपको बता दे आज भी श्रद्धा कपूर कही ना कही वरुण धवन को प्यार करती है.

 

एक इंटरव्यू के दौरान श्रद्धा ने बताया की आपने हाल ही में महानायक अमिताभ बच्चन के साथ ‘चेहरे’ में काम किया, मगर क्या शक्ति कपूर के बेटे होने के नाते आपकी उनके साथ बचपन की कोई याद जुड़ी है?बिलकुल.डैड ने उनके साथ ‘सत्ते पे सत्ता’, ‘महान’, ‘नसीब’, ‘लाल बादशाह’ समेत अनगिनत फिल्मों में काम किया है,तो बचपन से ही बच्चन साहब के यहां आना-जाना रहा है.नब्बे के दशक में उनके घर में होली की पार्टियां हुआ करती थी और हम अक्सर उनके घर जाते थे.बहुत मजा आता था होली खेलने में.वहां का खाना आज भी याद है मुझे.तब अभिषेक छोटा था.मगर वह बहुत शरारती था.एक ऐसी ही होली पार्टी में उसने मस्ती करते हुए मुझे कीचड़ में डाल दिया था. बच्चन साहब तब भी हम लोगों से बहुत प्यार और स्नेह से पेश आया करते थे.

‘चेहरे’ में उनके साथ काम करते हुए नर्वस थे आप?

जब मैं सेट पर पहुंचा, तो मैं इतना नर्वस था कि मेरी समझ में नहीं आया कि यह सच है या सपना? मैंने तो सोचा भी नहीं था कि मुझे उनके साथ काम करने का मौका मिलेगा.सेट पर मुझे किसी ऐक्टिंग स्कूल के बच्चे जैसा फील हुआ.उनके साथ हर पल कुछ सीखने जैसा था.वे एक तयशुदा शेड्यूल में काम करते हैं, तो सेट पर टाइमिंग को लेकर कमाल की पाबंदी होती थी.

 

वे अपने सीन करने से पहले रिहर्सल करते थे, वो देखने लायक होता था.वे अपने साथी कलाकारों को जिस तरह का सम्मान देते हैं, वह भी सीखने योग्य था.मेरे लिए एक चैलेंज ये भी था कि फिल्म में मैं गूंगे का रोल कर रहा था और मुझे अपने एक्सप्रेशन चेहरे से देने थे.बच्चन साहब की उपस्थिति ने मुझे अभिनेता के रूप में संवारा और मैं अपने रोल के साथ न्याय कर पाया.मैं यह बेधड़क कह सकता हूं बच्चन साहब के साथ काम करने से पहले मैं बहुत भी बेसब्र हुआ करता था,मगर उनसे मैंने धैर्य सीखा.

भौकाल पार्ट 2′ में क्या खास कर रहे हैं आप?

-‘भौकाल’ सीरीज के पार्ट टू के लिए पिछले 25 दिन मैंने लखनऊ में लगातार शूटिंग की.ओटीटी पर पार्ट वन को काफी पसंद किया गया था.पार्ट वन में मैंने महज तीन-चार एपिसोड में ही काम किया था, मगर मेरा चिंटू डेढ़ा का वो किरदार पार्ट टू का अहम किरदार बन गया.जैसा कि आप जानते हैं कि यह मुज्जफरनगर की सच्ची घटना से प्रेरित है.

ये एनकाउंटर स्पेशलिस्ट आईपीएस नवनीत सिकेरा की रियल स्टोरी पर आधारित है.अपने रोल के लिए मैंने अपनी भाषा पर कड़ी मेहनत की. ‘भौकाल 2’ में मेरा बड़ा भाई जो प्ले कर रहा है,प्रदीप नागर,वो उत्तर भारत के ही हैं.उन्हें उस प्रदेश की लिंगो और बॉडी लैंग्वेज की अच्छी-खासी नॉलेज है, तो उन्होंने मेरी काफी मदद की

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Air News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Dhara

Dhara

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *