Aashram 3 की कविता देती हैं बी-टाउन की हसीनाओं को टक्कर, बोल्ड सीन को लेकर बताया परिवार का रिएक्शन

प्रकाश झा की बहुचर्चित वेब सीरीज आश्रम का तीसरा सीजन कल यानी 3 जून से एमएक्स प्लेयर पर स्ट्रीम होने के लिए पूरी तरह तैयार है। फैंस के बीच भी इसे लेकर गजब का उत्साह और एक्साइटमेंट देखने को मिल रहा है।

इस बीच सीरीज के सभी किरदार भी लोगों के बीच छाए हुए हैं। पम्मी से लेकर बबीता और गुरु मां सभी फीमेल कैरेक्टर्स ने आश्रम में अपनी दमदार एक्टिंग से लोगों और क्रिटीक का दिल जीत लिया। इन्हीं में से एक किरदार कविता का भी है, जिसे उसके परिवार वालों ने जबरदस्ती बाबा के आश्रम में छोड़ रखा है।

दूसरी ओर बाबा ने भी कविता को अपने आश्रम में एक बंदी की तरह रखा है, जो चाहते हुए भी वहां से नहीं निकल पा रही है। कविता का किरदार निभाने वाली एक्ट्रेस अनुरिता झा सीरीज में बिल्कुल डरी सहमी और सीधी सी नजर आती हैं।

हालांकि, बाद में पम्मी की हिम्मत देख उन्हें खुद में भी हिम्मत आती है और वो पम्मी को भगाने में उसकी मदद करती है। लेकिन क्या आपको पता है कि असल जिंदगी में अनुरिता इतनी हॉट हैं कि उनके आगे अच्छी-अच्छी बॉलीवुड हसीनाएं भी फीकी नजर आती हैं।

एक बदनाम आश्रम’ जल्द ही दशर्कों के बीच स्ट्रीम होता दिखाई देगा। उससे पहले अनुरिता ने अपनी भूमिका और संघर्ष पर बात करते हुए बहुत सारे खुलासे किए हैं। अनुरिता खुद के बोल्ड किरदारों पर भी खुलकर बात की। उन्होंने कहा, ‘मैंने अपनी फैमिली को पहले ही बता दिया था कि मैं सीरीज में बोल्ड सीन्स करने वाली हूं।

ये मेरे लिए पहली बार था, जब मैं पर्दे पर बोल्ड सीन्स कर रही थी। मैंने अपने करियर में अब तक ऐसा नहीं किया था। इसे करने से पहले मैंने अपने पापा को फोन किया और उनसे कहा, डैड, सीरीज में बोल्ड सीन्स होंगे क्या मुझे ये करना चाहिए?’

इसके बाद उन्होंने पिता के रिएक्शन के बारे में भी बताया, ‘पापा ने उधर से जवाब देते हुए कहा हां, हां, बिंदास करो। इसलिए मैं ये सीन्स करने में एकदम सहज थी। प्रकाश झा सर के साथ शूटिंग करना काफी कंफर्टेबल रहा। वो स्टार्स पर भरोसा करते हैं और माहौल को काफी सुरक्षित बना देते हैं।’

एक्ट्रेस ने शूटिंग को लेकर भी बात की। उन्होंने बताया कि, ‘जब हम शूटिंग कर रहे थे तो 4-5 लोग ही थे। सेट पर ज्यादा लोग नहीं थे। सीन से पहले मेरी प्रकाश झा सर से अच्छे से बात हो गई थी, इसलिए मुझे कोई डर नहीं था। मैंने बात तो कर ली थी लेकिन मैं बिल्कुल नहीं जानती थी कि इसे करेंगे कैसे। मुझे नहीं पता था कि स्क्रीन पर इंटिमेट सीन कैसे करना है।

मैं नहीं चाहती थी कि ये सीन ज्यादा अश्लील बने क्योंकि मैं बिहार से हूं। मेरी फैमिली काफी सिंपल है और मेरे घर में किसी का भी फिल्मों से कोई कनेक्शन नहीं है। ये सब मेरे दिमाग में लगातार चल रहा था। लेकिन मेरी फैमिली मुझे काफी सपोर्ट करती है।’

अनुरीता ने कहा कि उनके परिवार – पिता, भाई और भाभी, बेहद सहायक रहे हैं और हमेशा उन्हें अपनी इच्छानुसार करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। “यह भी मदद करता है क्योंकि अगर आप परिवार के साथ बातचीत कर सकते हैं, तो उनका समर्थन बहुत अच्छा होता है। मैं धन्य हूँ। इससे पहले, मेरे माता-पिता मुझे डांटते थे जब वे मुंबई में मेरे शुरुआती दिनों में मेरी सुरक्षा के लिए डरते थे। लेकिन अब वे ठीक हैं।”

पहली बार लोगों ने उन्हें आश्रम अभिनेता के रूप में पहचानना शुरू करते हुए याद किया, उन्होंने कहा, “2020 में, मैंने मनाली की यात्रा की और लोग मुझे नकाब में पहचान लेंगे। मजेदार बात यह थी कि उन्होंने मुझे ‘कविता पोचेवाली’ के रूप में पहचाना। मैं ऐसा था ‘हाँ, मैं बस इतना ही करता हूँ, पूरे दिन फर्श को पोछो’।

वे ऐसे थे जैसे ‘क्या आप फर्श को पोंछते रहेंगे?’ और मैं उन्हें ‘प्लीज़ यार’ कहूँगा! सौभाग्य से इस बार कोई पोचा नहीं हो रहा है। मैं इसके साथ कर रहा हूँ। ” अनुरिता के वर्कफ्रंट की बात करें तो, गैंग्स ऑफ वासेपुर के अलावा, उन्होंने राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार विजेता फिल्म मिथिला माखन में भी अभिनय किया।

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Air News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Dhara

Dhara

Leave a Reply

Your email address will not be published.