पितृ पक्ष में होने वाली गलतियों को ऐसे करें दूर, उपाय जो आपको दिलाएंगे पितृ दोष से राहत

पितृ पक्ष में होने वाली गलतियों को ऐसे करें दूर, उपाय जो आपको दिलाएंगे पितृ दोष से राहत

पितृ पक्ष की शुरुआत 13 सितंबर से हो चुकी है जो कि 28 सितंबर तक चलेगा. इस दौरान लोग अपने पूर्वजों को तर्पण कर प्रसन्न करते हैं. कहते हैं कि व्यक्ति को देवी-देवता की पूजा करने से पहले अपने पूर्वजों को पूजना चाहिए. इससे पूर्वजों के साथ-साथ देवता भी प्रसन्न होते हैं. हिंदू धर्म में मरने के बाद का बहुत महत्व होता है. मान्यता है कि अगर किसी मनुष्य का विधिपूर्वक श्राद्ध और तर्पण नही होता है तो उसे इस लोक से मुक्ति नहीं मिलती. वह आत्मा के रूप में इसी संसार में रह जाता है. मृत्यु के बाद पितरों को प्रसन्न करने के लिए और उनका आशीर्वाद पाने के लिए पितृ पक्ष का पालन किया जाता है. पितरों के खुश और सुखी रहने से परिवार में हमेशा सुख-समृधि और शांति बनी रहती है. लेकिन कई बार अनजाने में हम पितरों का अपमान कर बैठते हैं जिस कारण हमारे परिवार में पितृ दोष हो जाता है. इसलिए श्राद्ध पक्ष में पितृ दोष को दूर करने के लिए तर्पण किया जाता है. तो आईये जानते हैं कि जाने-अनजाने में ग़लती हो जाने पर कैसे पितृ दोष को दूर किया जा सकता है.

इन तरीकों से कर सकते हैं पितृ दोष को दूर

  • किसी तालाब या नदी में तांबे के लोटे में काला तिल डालकर पितृ पक्ष के दौरान पितरों को तर्पण करना चाहिए. ऐसा करने पर लगा हुआ पितृ दोष दूर हो जाता है.
  • पितृ दोष को दूर करने का एक और सरल उपाय है. अगर पूरे पितृ पक्ष में आप रोज़ाना पीपल के पेड़ को जल, दूध और फूल अर्पण करते हैं तो आपका पितृ दोष समाप्त हो जाता है.

  • पितृ दोष समाप्त करने के लिए आप रोज़ ब्राह्मणों को भोजन करा सकते हैं. ऐसा करने पर अगर आप पर दोष लगा हुआ है तो वह समाप्त हो जाएगा. किसी भी हाल में ब्राह्मणों को भोजन कराना शुभ माना जाता है.

  • जब पितृ पक्ष चल रहा होता है तो लोग पशु-पक्षियों का ख़ास रूप से ध्यान देते हैं. कहा जाता है कि पशु-पक्षियों के रूप में ही हमारे पूर्वज इस धरती पर पधारते हैं. इसलिए पितृ पक्ष के दौरान इन लोगों का विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए. पितृ दोष को दूर करने के लिए कौएं, गाय और चीटी को भोजन कराना चाहिए.

  • वैसे तो दान हमेशा करना चाहिए पर पितृ पक्ष के दौरान दान करने से इसका महत्व और बढ़ जाता है. कहते हैं कि दान देने से पुण्य की प्राप्ति होती है. पितृ दोष को दूर करने के लिए ब्राह्मणों को दान देना चाहिए. ब्राह्मणों को दान देने से पुण्य मिलता है और पितृ दोष समाप्त हो जाता है.

 

Dhara

Leave a Reply

Your email address will not be published.