ऐसे कम बोलने वाले अजय पर दिल हार बैठी थी बड़बोली काजोल, पिता की मर्जी के ख़िलाफ़ की थी शादी

दिग्गज़ अभिनेता अजय देवगन और 90 के दशक की टॉप एक्ट्रेसेस में शुमार रही काजोल की जोड़ी को फैंस काफी पसंद करते हैं. अजय और काजोल की जोड़ी बॉलीवुड की पावरफुल जोड़ियों में शुमार है. 90 के दशक में साथ काम करने के दौरान दोनों कलाकार एक दूसरे को अपना दिल दे बैठते हैं. आइए आज आपको इन दोनों मशहूर कलाकारों की प्रेम कहानी के बारे में बताते हैं…

अजय देवगन और काजोल दोनों ने ही फ़िल्म इंडस्ट्री में बड़ा नाम कमाया है. काजोल अब फिल्मों में बहुत कम ही नज़र आती है, जबकि अजय देवगन अब भी लगातार फ़िल्में कर रहे हैं. बीते करीब 22 सालों से दोनों स्टार एक दूसरे का साथ निभा रहे हैं. साल 1999 में अजय और काजोल ने शादी कर ली थी. शादी बहुत ही साधारण तरीके से संपन्न हुई थी.

अजय देवगन ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत साल 1991 में की थी. उनकी पहली फ़िल्म ‘फूल और कांटे’ थी. अपनी पहली ही फ़िल्म से अजय देवगन दर्शकों का दिल जीतने में कामयाब रहे थे. अजय की डेब्यू फ़िल्म सुपरहिट साबित हुई थी. वहीं काजोल ने 18 साल की उम्र में साल 1992 में बॉलीवुड में कदम रखे थे. काजोल की पहली फ़िल्म बेखुदी थी. इसमें उनके अपोजिट कमल सदाना थे.

1994 में हुई थी पहली मुलाक़ात…

अजय देवगन और काजोल के रिश्ते की शुरुआत साल 1994 से होती है. साल 1994 में दोनों पहली बार मिले थे. बता दें कि, फ़िल्म ‘हलचल’ के दौरान दोनों कलाकारों की मुलाकात सेट पर हुई थी. बड़बोली, चुलबुली अदाओं वाली काजोल और चुपचाप रहने वाले अजय आगे जाकर हमेशा हमेशा के लिए एक दूसरे के हो गए थे. हलचल के दौरान ही अजय देवगन और काजोल एक दूसरे को पसंद करने लगे थे.

‘हलचल’ के दौरान ही हुआ प्यार…

फ़िल्म हलचल की शूटिंग के दौरान ही अजय देवगन और काजोल एक दूसरे को पसंद करने लगे थे. प्यार के लिए पहल शांत स्वभाव वाले और कम बोलने वाले अजय देवगन को ही करनी पड़ी. फ़िल्म हलचल की शूटिंग के बीच ही दोनों के अफ़ेयर की खबरें भी उड़ने लगी थी. शूटिंग ख़त्म होने तक तो मीडिया में दोनों का अफेयर ख़ूब चर्चाओं में आ गया था.

बता दें कि, अजय और काजोल ने साथ में कई फिल्मों में काम किया था. ‘गुंडाराज, इश्क, प्यार तो होना ही था, दिल क्या करे, यू मी और हम और राजू चाचा जैसी फिल्मों में दोनों साथ देखे गए. पहली बार दोनों स्टार ‘हलचल’ में साथ में देखने को मिले थे. यह फ़िल्म साल 1995 में रिलीज हुई थी. हालांकि फ़िल्म बॉक्स ऑफिस पर फ्लॉप साबित हुई, लेकिन अजय और काजोल की जोड़ी असल जिंदगी में चर्चा में रहने लगी.

ज़ख्म से फिर मिली अफ़ेयर को हवा…

दोनों के अफेयर को फ़िल्म जख्म के दौरान हवा मिलने लगी थी. अजय देवगन ने इस फ़िल्म में अहम रोल अदा किया था, जबकि काजोल का कोई रोल नहीं था. ऐसे में उन्हें जब फ़िल्म के सेट पर लगातार देखा जाने लगा तो सभी को यह साफ़-साफ इशारा मिल गया कि दोनों के बीच कुछ न कुछ जरूर चल रहा है. दोनों ने अपने रिश्ते में शादी से पहले एक दूसरे को पांच साल तक समय दिया. साल 1994 में शुरू हुई प्रेम कहानी साल 1999 में शादी में बदल गई थी.

24 फरवरी 1999 को लिए सात फेरे…

शादी के दौरान अजय और काजोल दोनों ही अपने करियर के शिखर पर चल रहे थे. एक दूसरे को करीब पांच साल तक डेट करने के बाद अजय और काजोल ने 24 फरवरी 1999 को शादी कर ली थी. यह शादी बहुत ही साधारण तरीके से संपन्न हुई. बॉलीवुड से भी शादी में किसी को नहीं बुलाया गया था. अजय और काजोल ने सात फेरे लिए थे.

बता दें कि, काजोल के पिता इस शादी के ख़िलाफ़ थे. क्योंकि वे चाहते थे कि उनकी बेटी करियर के शिखर पर शादी न करें. हालांकि काजोल और अजय शादी का फ़ैसला कर चुके थे. किसी तरह से काजोल के पिता मान गए और दोनों की शादी हो गई. शादी के बाद दोनों एक बेटी न्यासा और एक बेटे युग देवगन के माता-पिता बने.

वर्कफ़्रंट की बात करें तो काजोल मुख़्य रूप से फिल्मों में शुमार नहीं है. वे अब बहुत कम ही फिल्मों में नज़र आती है. वहीं अजय देवगन के पास आरआरआर, मेडे और मैदान जैसी फ़िल्में हैं. मैदान फुटबॉल पर आधारित फ़िल्म है. वहीं मेडे में अजय अमिताभ बच्चन के साथ नज़र आएंगे. वहीं आरआरआर में जूनियर एनटीआर और राम चरण जैसे साउथ के सितारें भी देखने को मिलेंगे.

[ डि‍सक्‍लेमर: यह न्‍यूज वेबसाइट से म‍िली जानकार‍ियों के आधार पर बनाई गई है. Air News अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है. ]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *